भारत के राष्ट्रीय ध्वज़ पर निबंध | Essay on National Flag in Hindi

भारत के राष्ट्रीय ध्वज़ पर निबंध | Essay on National Flag in Hindi

भारत के राष्ट्रीय ध्वज़ पर निबंध | Essay on National Flag in Hindi : किसी भी देश में उसके राष्ट्रीय ध्वज का अपना ही एक महत्व है !जितना सम्मान एक देश का होता है उनता ही सम्मानिए एक राष्ट्र का ध्वज भी होता है क्योंकि एक राष्ट्रिय ध्वज देश का प्रतीक चिन्ह माना जाता है !

जो उस राष्ट्र की विशेषताओ को बताता है और स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रिय भवनों पर लहराता हुआ नज़र आता है !भारत देश का राष्ट्र ध्वज है तिरंगा ! जिसे प्रथम बार स्वर्गीय पंडितजवाहरलाल नहरू, जो की हमारे देश के प्रथम प्रधानमंत्री थे, उन्होंने 15 अगस्त १९४७ को लाल किले पर स्वतंत्रता दिवस के दिन फहराया था !

इस दिन हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से आज़ाद हुआ था और हमे स्वतंत्रता प्राप्त हुई थी ! हमारा राष्ट्र ध्वज 3 रंगों से मिलकर बना है (हरा,सफेद और केसरिया ) और इसके बीच में एक नीले रंग का चक्र है जिसमे 24 तीलिया है, इसे अशोक चक्र कहा जाता है !

तिरंगे में सबसे उपर केसरिया रंग है, जो की वीरता, ख़ुशी और उत्साह का प्रतिक है, जो हमे जीवन में आगे बढ़ने, खुश रहने और उन्नति की तरह अग्रसर रहने में हमारा उत्साह बढ़ाता है ! इसके बाद बीच में सफेद रंग है, जो की सच , पवित्रता, शांति और हमारी संस्कृति का प्रतिक है और हमे उग्रवादी बनने से रोकता है !

इसमें बाद सबसे नीचे है हरा रंग, जो की हमारी प्रगति, सम्पन्नता और गौरव का प्रतीक है ! भारत एक कृषि प्रधान देश है और इसकी अर्थव्यवस्था भी इसी पर निर्भर है ! और  कृषि पर निर्भर रहने के कारन ही हमारे देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था ! और हरा रंग हमारी इसी सम्पन्नता को दर्शाता है !

तिरंगे के बीच में बना अशोक चक्र जो की नीले रंग का है यह हमारे विकास को बताता है की किस प्रकार इतने सघर्ष के बाद भी आज हम इतने अच्छे मुकाम पर है ! यह सर्वधर्म समभाव का परिचायक भी है ! हमे सभी धर्मों का आदर और सामान करना चाहिए क्युकी हमारा राष्ट्र किसी एक धर्म से नहीं बल्कि अनेकों धर्मों से मिलकर बना है ! और यहाँ आज भी सभी धर्म पूजे जाते है !

इस प्रकार हमारा राष्ट्र ध्वज हमारे देश की हर उस विशेषता को बताता है जो यहाँ मौजूद है ! यह राष्ट्रिय ध्वज स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अवसर पर फहराया जाता है ! दिल्ली में स्थित लाल किले पर इस ध्वज का ध्वजारोहण किया जाता है !

स्वतंत्रता दिवस के दिन यह शुभ कार्य प्रधानमंत्री द्वारा किया जाता है और और गणतंत्र दिवस पर इंडियन गेट पर हमारे देश के राष्ट्रपति द्वारा इस ध्वज को लहराया जाता है साथ ही 21 तोपों की सलामी दी जाती है ! दोनों ही दिन तीनो सेनाओं की टुकड़ियाँ रोमांचक तरीके से ध्वज का अभिवादन करती है और अपनी शक्तियों का प्रदर्शन करती है ! राज्यों में मुख्यमंत्री और राज्यपाल द्वारा ध्वजारोहन किया जाता है !

इसके अलावा जगह जगह पर अलग अलग विभागों में मुख्य अधिकारियों, पार्षदों, मुख्य अथितियों द्वारा ध्वजारोहण कर कार्यकर्म की शुरुआत की जाती है ! इसके बाद सांस्कृतिक कार्यकर्म शुरू किए जाते है ! इस दिन राष्ट्र ध्वज को सलामी देने के साथ साथ देश की स्वतंत्रता के लिए शहीद हुए स्वतन्त्रता सनानियो को भी श्रद्धांजलि दी जाती है !

जो हमे अपने देश की रक्षा और सुरक्षा के लिए मर मिटने की प्रेरणा देकर गए है ! हमारा राष्ट्रिय ध्वज सिर्फ हमारे देश के गौरव को ही नहीं बताता है बल्कि हमे इस बात के लिए भी प्रेरित करता है की जब भी हमे मौका मिले तो हमारे देश के लिए कुछ करने से हमे पीछे नहीं हटना चाहिए, चाहे उसके लिए हमे अपनी जान ही क्यों ना देनी पड़े ! लेकीन हमे अपने राष्ट्र के सम्मान के लिए हमेशा खड़े रहना चाहिए !

तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं की आपको आज का यह आर्टिकल भारत के राष्ट्रीय ध्वज़ पर निबंध | Essay on National Flag in Hindi काफी पसंद आयी होगी और इसे आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना चाहेंगे ।

Our other article :

महात्मा गाँधी का भारत छोड़ो आंदोलन पर भाषण

भारतीय गणतंत्र दिवस पर निबंध

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.