Top 10 Most Popular Secret Super Weapons in the world | ये हैं दुनिया के Top 10 सीक्रेट हथियार

   Top 10 Most Popular Secret Super Weapons in the world

ये हैं दुनिया के Top 10 सीक्रेट हथियार:- आज हमारा देश एक आजाद देश है, काफी कुर्बानियाँ दी है हमारे देश के लोगों ने अपने इस देश को आजाद करने के लिए ।हमें बेहद अच्छे तरीके से इस बात का एहसास है कि लोगों ने अपनी जाने गवाई है, लोग देश के लिए मर मिटने को तैयार थे और उनकी जुबान पर जो सिर्फ एक बात थी वो थी एक आजाद देश ।

खुद को आजाद करने के लिए लोगो ने कितने हथियारों का भी निर्माण किया था कई प्रकार के हथियार बने और उनका बेहद अच्छे तरीके से इस्तेमाल भी हुआ । कुछ मैदान में खुद अच्छे तरीके से उतरे होंगे मगर वही पर कई हथियार ठंडा भी पर गया होगा, या कोई कमी रहगयी होगी उसकी धार में या किसी प्रकार की बनावट में ।

हम सब छोटे – मोटे हथियारों के बारे में तो जानते ही हैं जैसे चाकू, तलवार , बंदूकें मगर क्या इससे ऊपर भी कोई हथियार होता है जो आपकी और हमारी ज्ञान की पेटी में ना हो और उसकी अपनी ही कुछ अनोखी विशेषताएँ हों , जुड़ी हो उसके साथ भी कई सी कहानियाँ और उसका अपना ही एक इतिहास। तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको Top 10 Most Popular Secret Super Weapons in the world के बारे बताने की कोशिश करेंगें |

हम शुरुआत करेंगें शब्द weapon यानि की हथियार से |अगर मैं आपसे इसकी एक छोटी- सी difinetion माँगू तो बहुत ही कम लोग होंगे जो इसको बता पाएंगे या जो इसकी एक प्रॉपर डिफिनेशन दे सकते हैं |और मगर सबके लिए कहीं न कहीं उनके हिसाब से एक defination जरुर होगी, तो इसको हम थोड़ा – सा और modify और easy करके आपको बतायेंगे यानि कि आपको एक छोटी-सी defination provide करेंगे ।

“हथियार जिसका उपयोग हम अपने किसी दुश्मन या फिर किसीकी हत्या करने के लिए इस्तेमाल करते है वो हथियार कहलाता है । अन्य शब्दों में बातकरें तो हथियार का प्रयोग हम बचाव या फिर किसीको डराने धमकाने के लिए भी इस्तेमाल करते हैं |
तो अब थोड़ा आगे बढ़ते हैं और बात करते हैं विश्व के 10 सबसे ज्यादा ताकतवर हथियारों की जो कुछ इस प्रकार है

1.हाइड्रोजन बम ( Hydrogen Bomb

 हाइड्रोजन बम परमाणु बम का एक तरह का किस्म है । हाइड्रोजन बम को हम H-BOMB भी बोलते हैं और ये बहुत अधिक मात्रा में शक्तिशाली होता है ।इसमें हाइड्रोजन के साथ साथ ड्यू टीरियम( deuterium) और ट्राईटीरियम की भी जरूरत होती है । hydrogen बम के fusion (फ्यूज़न) के लिए बहुत ही उच्च ताप मान की जरूरत होती है । जब परमाणु बम अपना आवश्यक ताप उत्पन्न करता है तभी हाइड्रोजन बम संलियत( FUSE) होता है ।

इस fusion से शक्तिशाली किरणे निकलती है जो की hydrogen को हीलियम में बदल देती है । हाइड्रोजन बम के विस्फोट होने से बहुत जादा मात्रा में ऊर्जा( energy) का आगमन होता है जिसका पता हमें 1922 में पता चला था । fusion को अत्यधिक उच्च तापमान प्राप्त करने की जरूरत होती है,

जिसके कारण हाइड्रोजन बम को “ थर्मोनुक्लियर” कहा जाता है। सबसे बड़ा हाइड्रोजन बम बनाया गया था वो “ जार बम था” इसे 30 october 1961 को एक परीक्षण स्थल पर विस्फोट किया गया था और ये भी कहा जाता है की दुनियाँ में 10 शक्तिशाली हथियारों में शेष बम को सबसे पहले खतरनाक हथियार बनाने के लिए 50 मेगटन विस्फोट का उत्पादन हुआ करता था ।

2. नुक्लियर बम (nuclear bomb):-

परमाणु बम में विस्फोट होने वाला पदार्थ यूरेनियम या प्लुटोनियम होता है। यूरेनियम या प्लुटोनियम के परमाणु विखंडन (Fission) से ही शक्ति मिलती है। इसके लिए परमाणु के केंद्रक (nucleus) में न्यूट्रॉन (neutron) से मारा जाता है। इस मार से बहुत बड़ी मात्रा में ऊर्जा निकलती है। परमाणु बम- का जो एक विषय होता है वो होता है विनाश करना । केवल युरेनियम की छोटी- सी मात्रा के बढ़ा देने पर वह एक पूरे शहर को खत्म कर सकता है ।

3. FOAB ( फाठेर ऑफ़ आल बोम्ब)

Type:- Thermodynamic bomb
Place of origin- Russia
Used by- Russian military

सभी बमों के पिता अमेरिकियों को एक करने की कोशिश करने के लिए रूसियों को पीछे छोड़ने के लिए बनाया था । सभी बमों के माँ के अमेरिकी विकास के जवाब में, रूसियों ने “ सभी बम का पिता बनाया जो वर्तमान में दुनियाँ में सबसे शक्तिशाली गैरपरमाणु हथियार है । यह शुरू हुआ और २००७ में रुसी ने इसका परिक्षण किया और यह 44टन टीएन्टी की एक ताकत लगाता है।
एफओऐबी एक खतरनाक सुपरसोनिक और साथ में बेहद उच्च तापमान के उत्पादन के लिए जमीन से ऊपर विस्फोट हो गया है ।

4. MOAB ( मदर ऑफ़ आल बोम्ब्स):- 

GBU-43/बी  विशाल वायु विस्फोट को “सभी बोम्बो की माँ” नाम दिया गया है। यह एक बहुत ही ताकतवर और शक्तिशाली लेकिन गैरपरमाणु बम है जिसको 2003 में लाया गया था । यह 11 टन टीएन के बराबर एक विस्फोट बनता है। इस बम को जमीन से लगभग 6 फीट ऊपर विस्फोट करने के लिए ही बनाया गया है क्यूंकि जमीन के संपर्क में विस्फोट करने का विरोध किया गया था।

इससे मजबूर होने के कारण जो विनाश की सीमा था उसको बढ़ा दिया गया था। सभी बमों की माँ 21,000 पाउंड का वजन करती है और 30 फीट लम्बाई । इसको उपग्रह द्वारा निर्देशित किया जाता है जिसके कारण इसको हम “ स्मार्ट बम” भी कहते हैं ।
यह दुनियाँ का सबसे शक्तिशाली गैर- परमाणु बम में से एक माना जाता है ।

5. Napalm (नेपलम):-

यह एक जुली हुए ऐजंट और पेट्रोलियम का मिश्रण है जो स्किन का पालन करता है और गंभीर जलती हुई या फिर आग से जलकर मृत्यु का कारण बनता है । इसे 1942 में विकसित किया गया था और इसे जल्द ही दूसरे विश्व युद्ध के बाद इस्तेमाल किया जाने लगा था।

मार्च 1945, में अमेरिकियों ने टोकयो पर लगभग 6,90,000पाउंड नापलम गिरा दिया था। इसने एक बहुत बड़े पैमाने पर आग लगाई जो आसमान में 1,80,000 फीट तक बढ़ गई।15 मील की दूरी के अंदर हर इमारत को बहुत ही गंभीर रूपसे बर्बाद कर दिया गया था और इस नेपल्म के हमले ने 1,00,000 सेअधिक लोगों को मार दिया था । नेपलम को दुनियाँ के सबसे शक्तिशाली हथियारों में से एक माना जाता है ।

6. MK-41 :- 

यह अमेरिका द्वारा बनाया गया है । यह एक थरोनुक्लियर हथियार है। यह सिर्फ 12 फीट लम्बा 4 फीट से अधिक वजन 10,670 पाउंड पर है। MK-41 को एक फायरबॉल बनाने के लिए निर्माण किया गया था । जिसमें से लगभग 4 मील का व्यास था । यह जमीन से शून्य ( जीरो) से २4 मिल तक ब्लास्ट और साथ ही में रहने वाले घरों से 8 मील की दूरी तक प्रबलित कंक्रीट निर्माण को नष्ट करने में समक्ष होगा। यह 3२- मील की त्रिज्या में किसी को भी जलाने का कारण होगा ।

7. NEUTRON BOMB :- 

यह बम एक घातक बम हो सकता है, वे हाइड्रोजनबम के समान उर्जा और खतरनाक प्रभाव पैदा नहीं करते हैं । वे लगभग 10 मेगाटन के विस्फोट तक ही सीमित है जो अभी भी विनाशकारी प्रभावों के लिए संपून शक्ति से ज्यादा है । भौगोलिक परिवेश को कम करते हुए शत्रु पर एक घटक प्रभाव पड़ने के लिए न्यूट्रऑन बम बनाया गया था। यह एक hydrogen बम से अलग है जिसका उद्देश्य लोगो को मारना और नष्ट करना होता है ।

8. Radiological weapons :- 

रेडियोलॉजिकल हथियार को इसलिए बनाया गया है ताकि ये रेडियोधर्मी सामग्री( radioactive material) को मृत्यु के प्राथमिक ( primary) उदेश्य के लिए इस्तेमाल कर सके । विस्फोट बहुत नुकसान नहीं पहुचायेगा मगर बम से निकली रेडियोधर्मी सामग्री आसानी से घटक हो सकती है। कभी -कभी “ गंदे बम” जो की इसका दूसरा नाम है, इन हथियारों को किसी जगह रेडियोएक्टिव material को फैलाने के लिए भी इसका इस्तेमाल होता है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट की हिसाब से इराक ने 1987 में रेडियोलॉजिकल हथियार का इस्तेमाल किया था ।

9. Chemical weapons :- 

रसायनिक हथियार को एक रूप में वर्णित किया जा सकता है , जो रासायनिक एजेटो को छोड़ने के लिए बनाये गए हैं ।क्लोरीन और फोस्ज़ीन को घुटने वाले एजेंट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है । हाइड्रोजन साईनाएट एक रत्तक एजेंट का उद्धरण है। कई अलग -अलग रासायनिक एजेंटों का मतलब है की मरने के कई अलग-अलग तरीके । अगर हम बात करें इतिहास की तो इतिहास में सबसे बड़ा रसायनिक हमले 16 मार्च 1988 को हुआ था, जबकि इराकी सेना के द्वारा रसायनिक हथियारों का प्रयोग करने पर 5000 लोग मारे गए थे और 10,000 से ऊपर तक के लोग घायल हुए थे ।

10. Biological weapon :-

 बायोलॉजिकल weapon करीब 2000 सालों से इस्तेमाल किये जा रहे हैं । जैविक हथियारों का इस्तेमाल व्यक्तियों से किसी भी व्यक्ति के लिए पूरे जन्संख्या में दोनों घातक और गैर-घातक परिणामों के साथ किया जा सकता है । “एंथ्रेक्स” पृथ्वी पर सबसे घातक हथियरो में से एक है। यह काफी हद तक खतरनाक है । बोटूलिनम एक आसानी से उत्पादित विष है जो कई रूपों में फैल सकता है इसका एक ग्राम एक लाख से अधिक लोगों को मार सकता है यदि ये साँस के साथ जाए तो।

तो यह थे विश्व के 10 सबसे ज्यादा ताकतवर हथियार। हम उम्मीद करते हैं कि आपको इससे आपका ज्ञान थोड़ा – सा और विकसित हुआ होगा । हम ऐसे ही कुछ और भी अनोखे और ज्ञान से भरे टॉपिक्स के साथ आपके लिए फिर आएंगे और अपनी ज्ञान की पोटली में से आपके साथ थोड़ा – सा ज्ञान शेयर करके जायेंगें ।

धन्यवाद् ।\\

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.