मृत सागर क्या है ? What Is DEAD SEA In Hindi ?

dead sea

मृत सागर क्या है ? What is DEAD SEA In Hindi? : समुद्र जिसे देखना काउ पसंद नहीं करता समुद्र को देखते ही उसमे स्विमिंग करने का मन होता है मगर कुछ लोग ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि उन्हें तैरने नहीं आता ऐसे में आज के इस आर्टिकल में बात की जाये एक ऐसे सागर की जिसके पानी में अगर आप सीधे कूद जाएँ तो भी आप तैरते रहेंगे । इस सागर का नाम है मृत सागर ( Dead Sea ) अब हम आगे विस्तार से जानेंगे की आखिर इस सागर का नाम मृत सागर (Dead Sea क्यों पड़ा )? और साथ ही जानेंगे की आखिर ये Dead sea क्या है ? (What is Dead sea In Hindi )

जैसा की आपलोग जानते ही हैं की समुद्र का पानी दूसरे जलस्रोतों के तुलना में कही ज्यादा नमकीन होता है । प्रत्येक समुद्री पानी के प्रत्येक घन फुट में औसतन एक किलोग्राम नमक होता है , जिसमे सोडियम और मैग्नीशियम जैसे खान्निज भी मिलते हैं । लेकिन मृत सागर दुनियां का एक अकेला ऐसा सागर है जिसका पानी दुसरे समुद्रो से तक़रीबन 6 – 7 गुना ज्यादा नमकीन है और साथ ही साथ 33 . 7 % खरा है |

Also Read : आर्यभट्ट की जीवनी

मृत सागर के पानी में बहाव न होने के कारण इसे एक बड़ी और संकीर्ण नमक झील का दर्जा भी दिया जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार इसका घनत्व इतना ज्यादा है कि अगर कोई व्यक्ति इस पानी में सीधे लेट जाए, तो कभी डूब नहीं सकता और बिना किसी डर के आसानी से तैर सकता है।

मृत सागर समुद्र तल से 4०० मीटर नीचे, दुनिया का सबसे निचला बिंदु कहा जाने वाला सागर है। इसे खारे पानी की सबसे निचली झील भी कहा जाता है। 34 किलोमीटर लंबा और 15 किलोमीटर चौड़ा यह सागर अपने उच्च घनत्व के लिए जाना जाता है, जिससे तैराकों का डूबना असंभव होता है।

मृत सागर में मुख्यत: जॉर्डन नदी और अन्य छोटी नदियाँ आकर गिरती हैं। इसके उच्च घनत्व के कारण इसमें कोई मछली जिंदा नहीं रह सकती, लेकिन इसमें जीवाणुओं की 11 जातियाँ पाई जाती हैं। इसके अतिरिक्त मृत सागर में प्रचुर मात्रा में खनिज पाए जाते हैं। ये खनिज पदार्थ वातावरण के साथ मिल कर स्वास्थ्य के लिए लाभदायक वातावरण बनाते हैं। मृत सागर को 2007 में ‘विश्व के सात अजूबे’ में चुने गए 28 जगहों की सूची में शामिल किया गया।

यह इजरायल और जार्डन के बीच स्थित है। इसका पूर्वी तट जार्डन है, जबकि दक्षिणी-पश्चिमी तट इजरायल है। इजरायल की तीन पर्वतमालाएं मृत सागर को घेरे हुए है और पूर्व में जार्डन के पठार हैं। यहां यहूदिया और यरदन जैसी नदियां बहती हैं जिनसे मृत सागर को पानी की आपूर्ति होती रहती है।

Also Read : आर्यभट्ट की जीवनी

पूरे साल यहां Temperature ज्यादा होता है- सर्दियों में जहां 30 डिग्री सेल्शियस होता है, वहीं गर्मियों में 40 डिग्री। गर्मी की वजह से मृत सागर का पानी वाष्पीकृत होता रहता है जिससे सागर में नमक का घनत्व बढ़ता रहता है।

मृत सागर का पानी खारा ही नहीं है, इसमें पोटाश, ब्रोमाइड, मैग्नीशियम, कैल्शियम, जिंक, सल्फर जैसे खनिज लवण भी काफी मात्रा में मिलते हैं। इस वजह से न तो यह पानी पीने लायक होता है, न इसमें मौजूद नमक का कुछ भी उपयोग किया जा सकता।

इसके बावजूद आज वैज्ञानिकों ने भी यह साबित किया है कि मृत सागर का यह खनिज-लवणयुक्त नमकीन पानी, सागर किनारे की काली मिट्टी और नमक से स्पा और मड-थेरेपी के जरिए कई लाइलाज रोगों का इलाज किया जा सकता है। यहाँ दूर दूर से आये सैलानियों की भीड़ लगी रहती है, यही कारन है की यहाँ पर आपको कई सारे होटल भी मिल जायेंगे ।

Also Read : पंचतंत्र की कहानी :तीन मछलियां

मृत सागर के दक्षिणी भाग में सागर लवण उद्योग को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। सागर के नमकीन पानी से नमक बनाने के लिए यहां कई मिलें स्थापित की गई हैं। इन मिलों में भूमि को उपजाऊ बनाने के लिए उपयोगी उर्वरक या खाद का निर्माण भी किया जा रहा है जिन्हें दूसरे देशों में भी भेजा जाता है।

मृत सागर क्या है (What is Dead sea In Hindi )

तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं की आपको मृत सागर क्या है (What is Dead sea In Hindi ) के बारे में जानकारी काफी अच्छी लगी होगी और इसे आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करेंगे ।

Read More: 

चार मित्र पंचतंत्र की कहानियां 

पंचतंत्र की कहानी : एकता का बल

जाने कैसे करे काली मिर्च की जैविक खेती

पॉलीहॉउस फार्मिंग करे और लाखो रुपए कमाएं 

एपीजे अब्दुल कलाम का इतिहास व जीवन परिचय 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.